Google Chrome में अब बिना पासवर्ड कर सकेंगे Google ने Android का नया फीचर लांच।

October में ही गूगल ने chrome के लिए यह नया फीचर लांच कर दिया था। लेकिन अब android यूजर के लिए भी यह नया फीचर लांच कर दिया है. पहले यह केवल डेस्कटॉप पर ही था लेकिन यह अब सभी के लिया है.

गूगल अपने क्रोम यूजर्स के लिए नया अपडेट पास-की (passkey) फीचर लेकर आया है, जिसकी मदद से बिना पासवर्ड डाले ही किसी भी वेबसाइट पर लॉनिग किया जा सकेगा। पास-की फीचर की मदद से यूजर्स गूगल क्रोम और एंड्रॉयड डिवाइस में पिन के अलावा बायोमेट्रिक यानी फिंगरप्रिंट या फेस आईडी से भी लॉगिन कर सकेंगे। इसका इस्तेमाल किसी भी वेबसाइट और एप में किया जा सकेगा। उदाहरण के तौर पर समझें तो आप फेसबुक में भी फेस आईडी या फिंगरप्रिंट से लॉगिन कर सकेंगे।

कॉमन पासवर्डलेस साइन-इन

बता दें कि इसी साल मई में माइक्रोसॉफ्ट, एपल और गूगल ने कॉमन पासवर्डलेस साइन-इन की घोषणा की थी। तीनों कंपनियों के सहयोग से “Passkeys” को वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्टियम (W3C) और FIDO Alliance ने तैयार किया है। इस फीचर्स को अक्तूबर में टेस्टिंग के लिए उपलब्ध कराया गया था, लेकिन अब इस फीचर को जारी कर दिया गया है।

दरअसल, एंड्रॉयड क्रोम पर पास कीज को गूगल पासवर्ड मैनेजर में स्टोर किया जाता है। यह पास-की को यूजर्स के एंड्रॉयड डिवाइस पर सिंक करता रहता है जिसपर सेम गूगल अकाउंट को लॉगिन किया गया है। नया पास-की फीचर क्रोम डेस्कटॉप के साथ मोबाइल पर भी काम करता है। हालांकि, इसके लिए आपका पीसी विंडोज 11 और मेकओएस पर अपडेट होना चाहिए। 

क्या है पास-की (Pass Key)?

पास-की एक यूनिक डिजिटल आइडेंटिटी है जो आपके डिवाइस पर स्टोर रह सकता है। यह आपके डिवाइस में यूएसबी सिक्योरिटी की तरह रह सकता है और इसकी मदद से आसानी से लॉगिन या एक्सेस किया जा सकता है। पास-की फीचर पासवर्ड से अधिक सुरक्षित और उपयोग में आसान है। इसे पासवर्ड की जगह इस्तेमाल करने के लिए डिजाइन किया गया है, यह बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन के लिए टच आईडी या फेस आईडी का उपयोग करता है।

इस फीचर की मदद से यूजर्स अन्य डिवाइस में भी वेबसाइटों या एप को सुरक्षित रूप से साइन-इन कर सकते हैं। यानी कि आपको अन्य डिवाइस में लॉगिन करने के लिए अपने ओरिजनल पासवर्ड को डालने की जरूरत नहीं होती, बल्कि आप पास-की का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

आईफोन में पहले से है पास-की सुविधा

पासवर्ड का यह नया तरीका गूगल पासवर्ड मैनेजर के साथ सिंक होता है तो आपको नए फोन में पासवर्ड को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है। यह पासवर्ड पुराने से नए फोन में आसानी से ट्रांसफर हो सकेगा। इसके अलावा गूगल ने कहा है कि यह पासवर्ड पूरी तरह से एंड टू एंड एंक्रिप्टेड है। बता दें कि आईओएस में यह सुविधा पहले से ही है।

Infinix ने लॉन्च किया सस्ता 5G फोन, 50MP कैमरे के साथ मिलेगा फास्ट प्रोसेसर

Infinix Hot 20 5G में 6.6 इंच की फुल एचडी प्लस आईपीएस एलसीडी डिस्प्ले का सपोर्ट है। फोन में MediaTek Dimensity 810 …

Noise Air Buds 2 का शानदार कनेक्टिविटी वाला ईयरबड्स लॉन्च, कीमत दो हजार रुपये से भी कम

Noise Air Buds 2 की बिक्री क्लियर ब्लैक और क्लियर व्हाइट कलर में हो रही है। Noise Air Buds 2 के साथ चार्जिंग के लिए …

BSNL Plan के इस ने उड़ाई जियो-एयरटेल की नींद, 365 दिनों तक रोज मिलता है 2GB डाटा

BSNL Plan टेलिकॉम इंडस्ट्री में सस्ते रिचार्ज प्लान देने के मामले में भारतीय संचार निगम लिमिटेड (BSNL) एयरटेल और …

Redmi Note 12 सीरीज जल्द होगी लॉन्च, मिलेगी कर्व्ड एमोलेड डिस्प्ले

Redmi Note 12 Pro+ को लेकर ज्यादा जानकारी अभी सामने नहीं आई है। Redmi Note 12 सीरीज को 6nm वाले ऑक्टाकोर मीडियाटेक …

Jio Book की बिक्री हुई शुरू,  यहां जानें कीमत से लेकर सभी फीचर्स

जियो बुक की पहली झलक इसी महीने की शुरुआत में दिल्ली में हुए इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 में देखने को मिली थी। इससे …

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

Guru Ji Price : Best and Lowest Price of Product
Logo
Compare items
  • Total (0)
Compare
0